केमिकल लोचे के शिकार.....

पहचान कौन???

मेरी फ़ोटो
मैं कौन हूँ, मैं क्या कहूं? तुझमे भी तो शामिल हूँ मैं! तेरे बिन अधूरा हूँ! तुझसे ही तो कामिल हूँ मैं!

आपको पहले भी यहीं देखा है....!!!

मंगलवार, 13 अगस्त 2013

आई मिस यू!!!

प्यारी सहेलियों और यारों, 
पिछले महीने मुखातिब नहीं हो सका. और इस बार भी वक़्त से कुछ लम्हे चुरा के अपनी ठरक पूरी कर रहा हूँ. नौकरी छोड़ कर पढ़ाई शुरू की है फिर से! 'आ बैल मुझे मार' का एकदम धाँसू एक्जाम्पल बन गया है मेरा डिसीजन! खैर, नौकरी छूटी, घर छूटा, शहर छूटा……… और जहाँ  ज़िंदगी ले आई है मुझे, वहाँ बस दो ही मौसम होते हैं, एक ज़्यादा बारिश और उससे भी ज़्यादा बारिश! और कभी बाई चांस बारिश ना भी हो, तो बादल धमकाते ज़रूर रहते हैं………….! 
खैर, जेहड़े रंग विच रब्ब राज़ी………!
 
ये बारिशें मुझे सोने नहीं देतीं!!!
इन बारिशों ने दूरियों को और दुशवार कर दिया है: 

 (1)
बूँदें छूती हैं तन को,
मगर मन को नहीं भिगोती!
अगर तू साथ होती,
तो कुछ और बात होती!
ये बारिशें मुझे,
सोने नहीं देती!
हाँ मगर…. 
अगर तू साथ होती,
तो कुछ और बात होती!


(2)
ये नमकीन पानी,
मेरे घाव हरे करता है!
मेरे जिस्म से,
मेरी रूह को परे करता है!
मेरी खुशदिली कमबख्त,
मुझे रोने नहीं देती!
हाँ मगर…. 
अगर तू साथ होती,
तो कुछ और बात होती!


(3)
खुद से खुदी को,
जुदा कर चुका हूँ!
तेरे इश्क़ में तुझको,
खुदा कर चुका हूँ!
तेरी बन्दगी  मुझे,
काफ़िर होने नहीं देती!
हाँ मगर…. 
अगर तू साथ होती,
तो कुछ और बात होती!


(4)
तेरी तिशनगी का,
ये आलम है हमदम!
मुझमें नहीं मैं,
अब तू ही है हर दम!
तेरी जुस्तजू
मुझे खोने नहीं देती!
हाँ मगर…. 
अगर तू साथ होती,
तो कुछ और बात होती!

उर्दू हैल्पडेस्क:
खुदी: Ego
काफ़िर: Infidel, Non-believer
तिशनगी: Desire, Longing
जुस्तजू: Search, Quest
बारिश का फोटू: गूगल बरसाती

19 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बाह...!
बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

ashish bhai...

kya baat....kya baat...kya baat....

agar hum aapse ye kalaa ki baareeqiyaan seekh paate to kuch aur baat hoti.

Bharat Bhushan ने कहा…

मैं बारिश-वारिश भूल गया.....नौकरी का क्या लफड़ा है?

sushma 'आहुति' ने कहा…

behtreen.....

दिगम्बर नासवा ने कहा…

वाह ... अगर तू होती तो ये होता ... तू होती तो वो होता ... हां सब कुछ होता अगर तू होती ... मिस करने का अंदाज़ लाजवाब है ...

monali ने कहा…

Like :)

Archana ने कहा…

बहुत बढ़िया ...

वाणी गीत ने कहा…

तेरे इश्क में तुझको खुदा कर चुका हूँ !!
ख़ुदा से पूछ तो लिया होता किन्नी मुश्किलें है ख़ुदा होने में , लोग सिर्फ मुश्किलों में ही याद रखते हैं !!

इमरान अंसारी ने कहा…

खुद से खुदी को,
जुदा कर चुका हूँ!
तेरे इश्क़ में तुझको,
खुदा कर चुका हूँ!
तेरी बन्दगी मुझे,
काफ़िर होने नहीं देती!
हाँ मगर….
अगर तू साथ होती,
तो कुछ और बात होती!

वाह बहुत बढ़िया । गहन, सुन्दर , शानदार |

sehba jafri ने कहा…

kamal hai, aosee kaun see jagah hain janaab!
khair wah saath nahee, koi baat naheee/ naseeb ne chaha to phir se miloge.

filhaal. Azadi mubarak, yani Happy Independence day
http://meourmeriaavaaragee.blogspot.in/2013/08/blog-post_14.html#comment-form

lori ali ने कहा…

अब जिसने शायर बनाया है उसने कुछ दुश्वारियां भी दीं तो क्या है :
आप बहादुरी से कहिये :
"तुझको तस्लीम चाँद कि तू
मेरे हमराह है, गहन की तरह "

Indu Puri ने कहा…

pdhkr achchha lga..........kaun hai wo??? aur.........aage bdhne ke liye tumne jo faisla liya wo soch smjhkr hi liya hoga. ishwar kre ek din tum uss muqaam pr pahuncho jahaan jana chahte ho

Yashwant Mathur ने कहा…

लाजवाब है बॉस



सादर

Yashwant Mathur ने कहा…

कल 18/08/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
धन्यवाद!

Prakash Jain ने कहा…

Aha...Bahut khoob!
Judai aur Tanhaai...Dard humdard hai

All the very best wishes for your bold decision...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

तू होती तो कोई और बात होती ..... बहुत सुंदर ।

नादान उम्मीदें ने कहा…

kuch likha h agr waqt ho to pdhkr margdarshan de,,, nadaanummidien.blogspot.com

lori ali ने कहा…

ashish!
lafzon se yuoon roothna thik nahi.
sab apkee raah dekh rhe hain....
"likhiye janab...."

monali ने कहा…

November aa chuka hai.. jaago