केमिकल लोचे के शिकार.....

पहचान कौन???

मेरी फ़ोटो
मैं कौन हूँ, मैं क्या कहूं? तुझमे भी तो शामिल हूँ मैं! तेरे बिन अधूरा हूँ! तुझसे ही तो कामिल हूँ मैं!

आपको पहले भी यहीं देखा है....!!!

मंगलवार, 20 नवंबर 2012

द स्पिरिचुअल कनेक्ट: ए ट्रिब्यूट टू मम्मी

अक्स-ए-अंजना

नदियों से बलखाते रस्तों पर,
डूबते-उबरते चलते-चलते!
कभी गर्मी की तपती धूपों में,
और सर्दी के घने कोहरे में कभी!
तू मुझको नज़र आ जाती है!

नुसरत की हर क़व्वाली में,
हर तान पे और हर एक ताली में!
कभी अनहद की हद के परे,
हवा में सूफ़ी नक्काशी सी कभी!
तू मुझको नज़र आ जाती है!

यूँ तो बेरंग हैं ख़्वाब मेरे!
आँखों से भी है नूर जुदा!
कभी होली के रंगीं मौसम में,
दीवाली के रोशन दीये सी कभी!
तू मुझको नज़र आ जाती है!

दुनियावी रिश्तों से दूर कहीं!
रूह के रिश्तों की दुनिया में!
कभी टिमटिमाते तारों में,
रूप बदलते बादल में कभी!
तू मुझको नज़र आ जाती है!

अंतिम शैय्या पर सोयी हुई,
आगोश-ए-आग में खोई हुई!
कभी हाथों की अभागी लकीरों में!
माथे की अधूरी तकदीरों में कभी!
तू मुझको नज़र आ जाती है!

अपने हाथों से तुझे जलाया था!
तेरी राख भी चुन के लाया था!
कभी चलती-फिरती हँसती-खिलती!
मिट्टी के बिखरे फूलों सी कभी!
तू मुझको नज़र आ जाती है!

तेरे संग जिसमें गोता लगाया था!
उसी गंगा में तुझे मिला आया था!
कभी उसकी निर्मल धारा में!
और उसमें घुले बालू में कभी!
तू मुझको नज़र आ जाती है!

जो जाते हैं फिर आते नहीं!
पर  यादें कहाँ कहीं जाती हैं?
कभी मीठी गालियाँ देती हुई!
और लाड लड़ाती हुई कभी!
तू मुझको नज़र आ जाती है!  

मौजूद नहीं तू ज़ाहिर में!
फिर भी मुझे राह दिखाती है!
कभी नेकी पर मुझे चलाती हुई!
बदी से बचाती हुई कभी!
तू मुझको नज़र आ जाती है!

यूँ तो तेरी रूह मेरे जिस्म में बसती है!
पर दीदार को जब अँखियाँ तरसती हैं!
कभी देखता हूँ आईने में अक्स तेरा!
आँखें बंद कर लेता हूँ कभी!
तू मुझको नज़र आ जाती है! 

आई लव यू!
आशू    

18 टिप्‍पणियां:

monali ने कहा…

:)...

ANULATA RAJ NAIR ने कहा…

हर पोस्ट में गुदगुदाने वाले आशीष ने आज रुला दिया.....
इसे रचना कह कर आपकी भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचा सकती....
बहुत सुन्दर एहसास....
हमने भी महसूस किये..

अनु

Madan Mohan Saxena ने कहा…

शब्दों की जीवंत भावनाएं.सुन्दर चित्रांकन,पोस्ट दिल को छू गयी..कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने.बहुत खूब.
बहुत सुंदर भावनायें और शब्द पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने...बहुत खूब.आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

संजय @ मो सम कौन... ने कहा…

राह दिखाती, नेकी पर चलाती, बदी से बचाती हुई हर पल आशू के साथ ही तो हैं।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत प्यारी और कोमल एहसास से भरी रचना ...

माँ को सच्ची श्रद्धांजलि

यशवन्त माथुर (Yashwant R.B. Mathur) ने कहा…

बहुत अच्छे शब्दों से आंटी को याद किया है।
बॉस सच में दिल को छू गयी यह कविता।

टेक केयर

अशोक सलूजा ने कहा…

दिल से निकली भाव-भीनी श्रद्धांजलि....
स्वस्थ रहें!

इमरान अंसारी ने कहा…

जज़्बातों में डूबी ये खुबसूरत पोस्ट बहुत उम्दा.....जज़्बात पर भी नज़रे इनायत हो ।

PBCHATURVEDI प्रसन्नवदन चतुर्वेदी ने कहा…

सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत ही कोमल और प्यारी कविता..

यशवन्त माथुर (Yashwant R.B. Mathur) ने कहा…


कल 23/11/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

दिल के करीब बैठ के लिखा सत्य ...
माँ के जाने का गम महसूस कर सकता हूं इस रचना के साथ ... मैंने अभी अभी(२ महीने पहले)माँ को खोया है ... अभी तक व्यवस्थित नहीं हो पाया हूं ... रोज कोशिश करने पे भी मन संयत नहीं हो पा रहा है ...
आपकी रचना पढ़ने के बाद रोक नहीं सका अपने आप को ....

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

अपने आत्मज को आभासित होती रहेगी, जब भी मन से याद करेगा उसे!वह कहाँ दूर रह सकेगी

नादिर खान ने कहा…

मौजूद नहीं तू ज़ाहिर में!
फिर भी मुझे राह दिखाती है!
कभी नेकी पर मुझे चलाती हुई!
बदी से बचाती हुई कभी!
तू मुझको नज़र आ जाती है!

यूँ तो तेरी रूह मेरे जिस्म में बसती है!
पर दीदार को जब अँखियाँ तरसती हैं.....

दिल को छू गई आपकी रचना
बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

Saras ने कहा…

माँ.....शब्द एक ...मगर कितनी सारी भावनाएं जुडी हैं उससे ......हर भावना छू जाती है .....हर एहसास अपने दिल के करीब लगता है ....हर माँ अपनीसी लगती है ......शायद हर माँ ऐसी ही होती है .....वह नेमत ...जो पास हो या दूर ...हमारे जीवन में वाबस्ता रहती है ......

Randhir Singh Suman ने कहा…

nice

संजय भास्‍कर ने कहा…

भाव-भीनी श्रद्धांजलि....!!!

bulbul yadav ने कहा…

Tera anchal or vo god bhaut yad ati h ma..
Ye srsrati hva aj b teri lori sunati h ma..
Kbi tsvir me to kbi kbita me,kla ki hr nbj me bs tu njr ati h ma..
Sari duniya bhul gai hu me, pr tu bahut yad ati h ma...